दो पत्नियों का कत्ल किया हॉलीवुड फिल्म के दिखाए गए तरीके से किसी को कुछ भी पता नहीं चला। पटियाला मर्डर स्टोरी,Patiala murder story

प्रतीकात्मक चित्र


पटियाला में कत्ल की अनोखी घटना फिल्मों में दिखाया गया सबसे बेस्ट मर्डर का तरीका, जिसको देखकर उसने भी कर डाला आपने दोनों पत्नियों का कत्ल।

ये क्राइम की घटना पंजाब कि है. कातिल एक महीने पहले ही गर्भवती पत्नी का क़त्ल कर देता है. परन्तु फिर भी वो दुनिया भर की नजरों में बेगुनाह ही रहता है। क्योंकि उसकी बीवी की मृत्यु को लोग सामान्य मौत समझते रहे. ऐसा इसलिए था,क्योंकि मृतक के शरीर पर ना तो कोई चोट का निशान था. एवं ना ही किसी तरह की कोई जबर्दस्ती का सबुत. और ना ही फांसी के फंदे का या फिर कोई अन्य निशान.


सभी ने ये मान लिया था कि, अचानक दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई. इस रहस्य पर तो पर्दा आज भी पड़ा रहता, लेकिन दूसरे मर्डर में जब आरोपी टीचर पुलिस के गिरफ्त में आया तब पता चला कि पिछली घटना भी हत्या की थी.


आखिर कौन है वो गुन्हेगार ? कैसे किया उसने क़त्ल? आखिर कौनसी ऐसी वजह थी कि, जिससे वह क़त्ल भी कर देता तो वो दुनिया की नजरों में सामान्य मौत साबित हो जाती थी.


खुनी का चेहर से उठा पर्दा।


 ख़ौफ़नाक साज़िश रचने वाले इस किलर के अपराध की कहानी 22 अक्टूबर 2021 को सामने आई.इस कातिल का नाम है,नवनिंदरप्रीत पाल सिंह. उम्र लगभग 40 साल है. इस पर इल्ज़ाम बीवी एवं मंगेतर की हत्या का है. दोनों के मर्डर का तरीका एक जैसा. लेकिन कोई सुराग नहीं छोड़ा गया. एक मर्डर 19-20 सितंबर 2021 की रात को पहली बीवी का एवं दूसरा क़त्ल मंगेतर का हुआ 13 अक्टूबर की रात को.


दरअसल, इस हत्यारे नवनिंदरप्रीत पाल सिंह ने पुलिस रिमांड के दौरान यह कबूल किया कि, उसने ही अपनी मंगेतर का मर्डर किया था. उसने पुलिस को यह भी बताया कि उसने अपनी मंगेतर छपिंदरपाल कौर से सगाई करने से पहले भी दो शादी की थी.


अपने रिश्ते से परेशान होकर उसने पहली बीवी सुखदीप एवं बाद में मंगेतर छपिंदरपाल कौर की हत्या की प्लानिंग कर अंजाम दिया था. उसने इसके लिए रिसर्च की और कई हॉलीवुड क्राईम फिल्में देखी और फिर नाइट्रोजन सिलेंडर का इस्तेमाल करके हत्या करने के तरीके के बारे में इंटरनेट से बहुत सी जानकारी जुटाई थी.


मर्डर से जुड़े अपराध का यह मामला पंजाब राज्य के पटियाला का है, इसमें आरोपी नवनिंदरप्रीत पाल सिंह ने अपनी होने वाली पत्नी यानी मंगेतर के मर्डर की साजिश को अंजाम देने की बात स्वीकार की है, इसके बारे में जानकारी तब प्राप्त हुई, जब बठिंडा की छपिंदरपाल पाल कौर जिसकी उम्र 28 वर्ष के लगभग थी, इस महिला के हत्या की इन्वेस्टिगेशन के दौरान पुलिस को कुछ शक हुआ, दरअसल इस आरोपी ने अपनी होने वाली पत्नी को शादी की शॉपिंग के लिए पटियाला आने को कहा था, और वह इसके लिए पटियाला आ गई, 11 अक्टूबर से लेकर 13 अक्टूबर तक मृतक/पीड़िता ने अपने परिवार वालों से फोन पर बात की थी ,परंतु इसके पश्चात जब मंगेतर की घर वालों ने उसके मोबाइल पर फोन किया तो, उसके होने वाले पति यानी नवनिंदरप्रीत पाल ने फोन उठाया.


उसने परिवार वालों को यह बताया की 14 अक्टूबर को जब वह शॉपिंग करने गए तो इस दौरान उन दोनों में झगड़ा हो गया था, उसके बाद वह कहीं चली गई एवं जल्दबाजी और गुस्से में वह अपना मोबाइल फोन भी अपने साथ ले जाना भूल गई थी, जिससे कि वह उससे अब संपर्क नहीं कर पा रहा है।


मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पीड़ित लड़की के पिता जिनका नाम सुखचैन सिंह है उन्होंने बताया कि 13 अक्टूबर को उनकी अपनी बेटी से आखरी बार बात हुई थी जिसके बाद उसके फोन पर उसकी बेटी के होने वाले पति से बात हुई, परंतु उसके जवाब से वो संतुष्ट नहीं है, इसके बाद वह 15 अक्टूबर को पटियाला आए हैं,सुखचैन सिंह ने यह भी कहा कि नवनिंदरप्रीत और उनकी बेटी छपिंदरपाल कौर की सगाई वर्ष 2020 में ही हो गई थी ,लेकिन तब से वह शादी को टाल रहा था।


लेकिन अभी पिछले दिनों ही शादी की तारीख 20 अक्टूबर तय हुई थी, परंतु ऐन समय पर उस तारीख को भी शादी को उसने बहाना बनाकर टाल दिया, जिससे कि उसकी बेटी बहुत ही परेशान थी, उसी बात को समझाने के लिए आरोपी ने शॉपिंग के बहाने से उसको पटियाला बुलाया था। लेकिन 15 अक्टूबर तक भी उनको उनकी बेटी नहीं मिली तो, सुखचैन सिंह को नवनिंदरप्रीत पाल  पर कुछ शक हुआ, तब इसके बाद उन्होंने आरोपी के विरुद्ध पुलिस ने अपनी शिकायत को दर्ज कराया।


कातिल ने कैसे दिया पुलिस को चकमा।


प्रारंभिक इन्वेस्टिगेशन के अंतर्गत आरोपी ने पुलिस को अपनी बनावट और झूठी कहानी से गुमराह किया था, इसमें उसने पुलिस को यह बताया कि, पीड़िता उससे शॉपिंग करने के लिए साथ चलने के बात को लेकर मामूली झगड़ा करके घर से कहीं चली गई थी और इस दौरान वह गुस्से में थी, तो अपना मोबाइल फोन भी वह यहीं उसके घर पर ही छोड़ गई थी।


लेकिन पुलिस को उसके द्वारा दिए गए बयान और उसकी बातों में साफ-साफ कुछ गड़बड़ नजर आ रही थी, तो पुलिस ने इसके बाद उसके बीते हुए कल के बारे में जानकारी जुटाना शुरू किया, इसके बात उन्हें पता चला कि, वह इससे पहले भी शादी कर चुका है,लेकिन इस बारे में कभी उसने कुछ भी जानकारी नहीं दी है।


इसके साथ यह भी मालूम हुआ कि 1 महीने के अंदर ही उसकी पत्नी की रहस्यमई स्थिति में मौत हो गई थी, परंतु इस बात को भी उसने सबसे छुपाए रखा, और तो और जहां उसकी शादी होने वाली थी, उनके परिवार से भी इस बात को छुपाया गया, जिससे कि पुलिस का शक उस पर और भी बढ़ता गया।


फिर इसके पश्चात पुलिस ने मंगेतर का मर्डर करके शव हो छुपाने का मामला दर्ज कर लिया, पुलिस ने मृतक पीड़िता के पिता की शिकायत पर 22 अक्टूबर की तारीख 2021 को उसे गिरफ्तार कर लिया,जिसके पश्चात न्यायालय ने पुलिस को नवनिंदरप्रीत पाल सिंह का 6 दिनों के लिए पुलिस को रिमांड आदेश दिया, जिसके बाद इस हत्या के आरोपी ने ऐसे दिल दहलाने वाले राज का खुलासा किया सब अचंभित रह गए‌।

**


पुलिस रिमांड में आया सच सामने।


 पुलिस रिमांड में आरोपी ने जो खुलासे किये वो बेहद ही चौंकाने वाले थे. उसने बताया कि मंगेतर छपिंदरपाल कौर की उसने नाइट्रोजन गैस के इस्तेमाल से पहले हत्या की एवम् फिर उसके शव को अपने घर के कमरे में ही फर्श को खोदकर दफना दिया था. इस घटना को उसने 13 अक्टूबर को रात में ही अंजाम दे दिया था.


आरोपी ने पुलिस को कहा कि वो इस मर्डर को ऐसे अंजाम देना चाहता था, जिससे कि किसी को भी उसपर शक नहीं हो. और वो ये भी नहीं चाहता था कि, उसे इसमें मारपीट करनी पड़े या जोर जबरदस्ती से गला दबाना पड़े. या फीर किसी चाकू या किसी दूसरे हथियार का इस्तेमाल करना हो. ऐसी आखिर कौन सी तरकीब हो सकती है, जिससे हत्या भी हो जाये और कोई सबूत भी नहीं मिले।


जिसके लिए उसने काफी रिसर्च की उसने इसके लिए हॉलीवुड एवं साउथ की बहुत सारी सस्पेंस और थ्रिलर फिल्में देखी, इन फिल्मों से ही उसे कत्ल के इस तरीके का पता चला कि, अगर किसी को ऑक्सीजन के स्थान पर अगर नाइट्रोजन गैस सुंघा दी जाए तो उसके शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो जाएगी और जब शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिलेगी तो मृत्यु होना स्वभाविक लगेगा और यह एक सामान्य मौत जैसा लगेगा।


फिर वह अपनी योजना सोचने लगा. इस शख्स ने भी वही तरीका अपनाने की सोची, लेकिन अब बात ये थी कि आखिर वह क्या कहकर  अपनी मंगेतर को  ऑक्सीजन के स्थान पर नाइट्रोजन गैस सुंघाता, तो इसके लिए भी उसने एक नई तरकीब खोज निकाली. उसने अपनी होने वाली पत्नी से कहा कि शादी से पहले चेहरे पर अगर अच्छी चमक लाने के लिए ऑक्सीजन गैस लेनी होती है.


इस तरीके को आजमाने से चेहरे पर ग्लो आ जाएगी. और भी कुछ बहाने बना कर नाइट्रोजन गैस लेने के लिए उसने अपनी मंगेतर को बहला-फुसलाकर तैयार करा लिया. इसके बाद बड़ी ही चालाकी से ऑक्सीजन के सिलेंडर में वह नाइट्रोजन गैस भरवाकर घर पर ले आया और अपनी मंगेतर को दे दी. मंगेतर ने भी ऑक्सीजन की जगह नाइट्रोजन गैस से भरे सिलिंडर का मास्क अपने मुंह पर लगा लिया जिसके बाद कुछ देर में उसने दम तोड़ दिया.


मर्डर के बाद डेड बॉडी को कैसे छुपाया।


क़ातिल ने अपने अपराध को छुपाने के लिए किसी प्रकार की कोई कसर नहीं छोड़ी. उसने हत्या के बाद मंगतेर के शव को ठिकाने लगाने के लिए भी फिल्मी तरीके से सारा ताना-बाना बुना. आरोपी ने छपिंदरपाल कौर को कत्ल करने के बाद उसके शव को अपनी अर्बन एस्टेट फेज-1 की कोठी के बेडरूम में ले जाकर ही दफ़नाया दिया.


इस दौरान इस कातिल ने खड्डा खोदने के लिए ग्लबस पहनकर और पत्थर के टुकड़े आंख में और  चेहरे पर ना लगे इसके लिए चश्मा भी लगाया, खड्डा खोदते  समय किसी प्रकार का शोर किसी को सुनाई ना दे,इसके लिए उसने कमरे की टीवी का आवाज बहुत तेज कर दिया। कुछ घंटे तक लगातार खुदाई करने के बाद उसने डेड बॉडी को दफना दिया, उसके बाद इस आरोपी ने खड्डे को फिर से प्लास्टर लगाकर बराबर कर दिया और उसके ऊपर मैट बिछाकर बेड को लगा दिया, ताकि किसी को भी इस बारे में कोई खबर ना हो, भनक ना लगे।


गर्भवती पत्नी की भी कर चुका है, नाइट्रोजन गैस से हत्या।


पुलिस के इन्वेस्टिगेशन में पता चला कि, आरोपी ने 12 फरवरी 2018 को  बिशनपुरा गांव तहसील सुनाम की रहने वाली सुखदीप कौर के साथ भी शादी की हुई थी. शादी कुछ वर्ष बाद ही आरोपी पत्नी सुखदीप कौर को भी मारने कि तैयारी में जुट गया था. मौका मिलने पर आरोपी ने उसकी भी हत्या 19 सितंबर 2021 की देर रात नाइट्रोजन गैस सुंघाकर कर दी.

##

उसने इस दौरान यह भी बताया कि जब हत्या की उस समय सुखदीप गर्भवती थी. ऐसे में इसके लिए उसने बहाना बनाया कि, अगर वो आक्सीजन लेगी तो बच्चे का विकास बेहतर ढंग से होगा. उसके बाद उसने नाइट्रोजन गैस को सुंघाकर अपनी पत्नी को मार दिया. इस क़त्ल की वारदात के बाद उसने पत्नी के परिवार वालों को इस बारे बताया कि, हार्ट अटैक आने से उसकी मौत हो गई. क्योंकि सुखदीप के शरीर पर किसी तरह का कोई चोट का निशान नहीं था, और ना ही कहीं से खून निकला था. इसलिए सुखदीप के घरवाले भी उसे हार्ट अटैक मानकर शांत हो गए .


पुलिस ने कैसे बरामद किया हत्या के बाद शव।


पुलिस ने अपनी जांच में बताया कि पीड़िता की लाश को आरोपी ने अपने बेडरूम में ही चार फीट गहरे गड्‌ढे में गाड़ दिया था. पुलिस ने स्थानीय नायब तहसीलदार के मौजूदगी में शव को गड्‌ढे से बाहर निकाला और पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया.

पुलिस ने इस केस में  क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए ,पुलिस की एक टीम आरोपी को सुबह 7 बजे  22 अक्टूबर के दिन  उसके घर लेकर गई. एवं उसके पिता रिटायर्ड लेफ्टिनेंट कर्नल बलवंत सिंह को भी उसके साथ घटनास्थल पर मौजूद रखा गया,घटना के समय आरोपी के माता-पिता कहां गये हुए थे, इस बात का अब तक खुलासा पुलिस ने नहीं किया है।


Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.