सोलर कार का मॉडल आया पसंद आनंद महिंद्रा ने गणित के टीचर बिलाल अहमद के अविष्कार खूब कि तारीफ। Anand Mahindra & Solar Car.



श्रीनगर के बिलाल अहमद की सोलर कार आनंद महिंद्रा को आई पसंद कहां महिंद्रा रिसर्च वैली में आपका स्वागत है।


महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के प्रमुख आनंद महिंद्रा अक्सर अपने ट्वीट के द्वारा टैलेंटेड लोगों की तारीफ करते रहते हैं, इस बार उन्होंने श्रीनगर के रहने वाले मैथ के टीचर बिलाल अहमद के द्वारा तैयार की गई एक सोलर कार को पसंद किया है,और उन्होंने उनके इस आविष्कार उनके प्रयास के लिए उनको खूब बधाई भी दी है एवं इसके आगे उन्होंने कहा कि, वह अगर अपनी कार को महिंद्रा रिसर्च वैली में लेकर आते हैं उनका स्वागत है।व सोलर पॉवर से चलने वाली इस प्रोटोटाइप कार को विकसित करने वाले श्रीनगर के निवासी गणित के टिचर बिलाल अहमद की मदद के लिए आनंद महिंद्रा जी ने हाथ बढ़ाया है.


Anand Mahindra & Solar Car- योग्य और बेहतरीन काम करने वाले लोग हमेशा तारीफ के हकदार होते हैं और इसमें उनके काम को सराहने वाले लोगों में सबसे प्रमुख नाम आता है,महिंद्रा ग्रुप के आनंद महिंद्रा का इस बार भी उन्होंने एक ऐसे सोलर कार के डिजाइन के बारे में ट्वीट किया है,यह प्रोटोटाइप डिजाइन इतना बेहतरीन था कि, उसको देखकर महिंद्रा ग्रुप के प्रमुख आनंद महिंद्रा  इसके कायल हो गए. Jammu and Kashmir के रहने वाले अध्यापक के काम की तारीफ करते हुए इन्हें एक शानदार बेहतरीन ऑफर दे रहे हैं।


इस बार आनंद महिंद्रा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो को शेयर करते हुए, सौर ऊर्जा से चलने वाली प्रोटोटाइप कार बनाने वाले गणित के अध्यापक और श्रीनगर के रहने वाले बिलाल अहमद को मदद के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया है,बिलाल ने ग्रीन मोड के तहत पेट्रोल-डीजल को दरकिनार करते हुए, सोलर ऊर्जा से चार्ज होकर चलने वाली एक कार को बनाया है. कार के छत सहित सभी दरवाजों पर बोनट पर और इसके पिछले हिस्से पर भी सोलर पैनल  को सेट किया है.


11 साल की मेहनत से घर पर कैसे बनाई बिलाल ने सोलर कार.


सनात नगर जो कि श्रीनगर में पड़ता है, यहां के एक अध्यापक जो कि अपने परिवार के साथ यहां रहते हैं. उन्होंने अपनी सोच और रिसर्च के द्वारा सोलर ऊर्जा से चलने वाली कार को बनाने के लिए 1950 की एक पुरानी कार मैं यूनिक मोडिफिकेशन किया है. बिलाल अहमद ने इसको बनाने के लिए 11 साल का लंबा वक्त लगाया है, व इसमें अपनी मेहनत की कमाई के बहुत सारे रुपए भी खर्च किए हैं. उन्होंने इस सौर ऊर्जा से चलने वाली कार के चार्जिंग प्वाइंट को भी इसके अंदर ही लगाया है. अगर बिलाल आनंद महिंद्रा की इस पेशकश को स्वीकार कर लेते हैं.तो उनकी इस सौर कार को और बेहतर बनाने के लिए महिंद्रा ग्रुप की एक्सपर्ट की रिसर्च टीम इस काम में लग जाएगी. जिससे की संभावना है बिलाल की सोलर ऊर्जा से संचालित होने वाली कार एक शानदार और स्टाइलिश मॉडल के रूप में भारत की सड़कों पर जल्द उतर सकती है.


महिंद्रा ने क्या ऑफर दिया है।

 महिंद्रा ग्रुप के प्रमुख ने अपने ट्वीट में बिलाल अहमद के मेहनत व प्रयास को तारीफ के योग्य बताया. इसमें उन्होंने यह कहा कि मैं इनके अकेले ही इस प्रोटोटाइप को विकसित करने के प्रयास कि सराहना करता हूं. स्पष्ट रूप से इस डिजाइन को उत्पादन के अनुकूल संस्करण में विकसित किते जाने की आवश्यकता है. इसके अन्तर्गत उन्होंने पेशकश करते हुए, उन्होंने कहा कि शायद महिंद्रा रिसर्च वैली में हमारी टीम इसको बेहतर बनाने और विकसित करने के लिए बिलाल के साथ काम कर सकती है.


इससे पहले भी महिंद्रा बहुत से ऐसे लोगों के कार्यों को जो तारीफ के काबिल कर चुके है, उन्हें सोशल मीडिया पर प्रोत्साहित किया है, उनके इस प्रयास और ट्विटर पर उनके द्वारा लोगों का ध्यान ऐसे व्यक्तियों की ओर आकर्षित करने में महत्वपूर्ण है, उन्हीं की बदौलत बहुत सारे छुपे हुए काबिल लोग दुनिया के सामने आए हैं जो तारीफ के हकदार हैं।










Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.